शिकायत कर्ताओं को क्यों डराती है पुलिस ?
July 26, 2020 • J. P. Gupta

अपराधियों के खिलाफ आखिर क्यों नहीं करती कार्यवाही ?

पूर्वी दिल्ली ! आए दिन झपट मारी के मामले समाचारों की सुर्खियां बने हुए हैं,शिकायतकर्ता पहले तो पुलिस में जाने से डरते हैं और जो चला भी जाये पुलिस उसको डराने की पूरी कोशिस करती है ! ऐसा ही एक मामला थाना न्यू अशोक नगर के अंतर्गत आया है पीडित श्वेता माहेश्वरी अपने पति के साथ 12 जुलाई 2020, को सरपंच चौक न्यू अशोक नगर फल खरीदने के लिए घर से निकली,जब फल खरीद रहीं थीं तभी अचानक मोटरसाईकिल पर सवार होकर दो लड़के आये और गले से सोने की चैन झपट कर न्यू अशोक नगर मैट्रो स्टेशन की तरफ भाग गए जिसकी श्वेता माहेश्वरी ने 12 जुलाई 2020, ऑनलाइन FIR संख्या 000568, IPC संख्या 379 के तहत दर्ज कराई थी लेकिन क्षेत्रीय पुलिस को यह न गवार लगा ! पीड़ित श्वेता माहेश्वरी को 13 जुलाई को थाने से फ़ोन आया और ऑनलाइन मुकदमा दर्ज कराने पर धमकाने लगे ! 13 जुलाई 2020 को ही दोपहर 2:21 PM पीड़िता के पति को पुलिस की तरफ से फ़ोन आया कि सरपंच चौक MCD टोल के पास आ जाइये ! पीड़िता श्वेता माहेश्वरी व उनके पति MCD टोल पर पहुंचे उसके बराबर में बने कमरे में हेड कॉन्स्टेबल युद्धवीर सिंह व कॉन्स्टेबल महेश कुमार बैठे हुए थे ! पीड़िता श्वेता माहेश्वरी ने उपरोक्त पुलिस कर्मियों पर आरोप लगाया कि हैड कांस्टेबल युद्धवीर सिंह, कॉन्स्टेबल महेश कुमार ने डराया,धमकाया व जान से मारने की धमकी दी और कहा कि तुम्हें व तुम्हारे पति को झूठे केस में फसा देंगे। और दो सादा कागजों पर जबरन हस्ताक्षर करा लिए फिर उन्होंने सीमा विवाद तैयार किया और पीड़िता के पति को कार में बिठा कर कॉन्स्टेबल महेश कुमार थाना सेक्टर-20, नोएडा ले गए ! थाना सेक्टर-20 की पुलिस थाना अध्यक्ष सहित अपनी टीम के साथ मौकाए वारदात पर सरपंच चौक पर पहुँचे। 
पीड़िता श्वेता माहेश्वरी ने प्रधानमंत्री भारत सरकार से माँग की है कि मामले की जाँच दिल्ली पुलिस हैड क्वार्टर विजिलेंस द्वारा  कराई जाए तथा हैड कांस्टेबल युद्धवीर सिंह, कॉन्स्टेबल महेश कुमार जैसे भ्रष्ट पुलिस कर्मियों को जल्द बर्खास्त किया जाए ताकि दिल्ली पुलिस की छवि धूमिल न हो !
 नोएडा दिल्ली की सीमा को लेकर आपस में दिल्ली पुलिस और नोएडा पुलिस में विवाद हुआ ! वहाँ खड़े फल की रेडी वालों से जब पुलिस ने पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि हम दिल्ली की सीमा पर खड़े हैं और उपरोक्त पुलिस कर्मी हैड कांस्टेबल युद्धवीर सिंह व कॉन्स्टेबल महेश कुमार हम से महीना दारी के पैसे लेते हैं, जिसकी नोएडा पुलिस ने वीडियो रिकॉर्डिंग में रेडी पटरी वालों के मौखिक व लिखित व्यान भी लिए जो नोएडा पुलिस के पास पाबन्द हैं। थाना न्यू अशोक नगर पुलिस व नोएडा पुलिस में तय हुआ कि झपट मारी वारदात जहां हुई वह छेत्र दिल्ली का है ! श्वेता माहेश्वरी ने क्षेत्रीय पुलिस पर आरोप लगाया कि झपट मारो से  पुलिस की सांठ गांठ है इसलिये पुलिस पीड़िता को परेशान कर रही है, डरा,धमका रही है और झूठे मुकदमे में फसाने की धमकी दे रही है ! श्वेता माहेश्वरी ने 16 जुलाई को प्रधानमंत्री भारत सरकार, ग्रह मन्त्री भारत सरकार, उपराज्यपाल, राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग, राष्ट्रीय महिला आयोग, CBI अपराध निरोधक शाखा, पुलिस आयुक्त, अतिरिक्त आयुक्त विजिलेंस, पुलिस उपायुक्त पूर्वी दिल्ली, को लिखित पत्र में निष्पक्ष जाँच की माँग की है !