पुलिस ने खुरेजी धरने पर बैठी महिलाओं को उखाड़ फेंकने की कोशिश से किया इंकार
January 15, 2020 • sona thakur

नई दिल्ली 15 जनवरी ! नागरिकता संशोधन कानून CAA के विरुद्ध में पिछले 5 सप्ताह से पूरे देश में विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं जिसमें महिलाएं भी आगे आगे नजर आ रही हैं ! शाहीन बाग प्रदर्शन से जो दिलेरी व हिम्मत महिलाओं ने दिखाई वह धीरे-धीरे पूरे देश में फैल रही है ! इसी श्रंखला में 13 जनवरी से खुरेजी की महिलाओं ने भी मोर्चा संभाला है और शांतिप्रिय ढंग से विरोध प्रदर्शन चल रहा था कि 14 फरवरी की रात 3:00 बजे पुलिस ने पूरे दल बल के साथ प्रदर्शन कर रही महिलाओं को उखाड़ फेंकने की कोशिश की ! पूर्व पार्षद इशरत जहां ने पुलिस के रवैए की निंदा करते हुए कहा कि मोदी पुलिस ने जो महिलाओं को डराने धमकाने की कोशिश की उससे इस प्रदर्शन को और अधिक बल मिलेगा ! खालिद सैफी ने बताया कि दिन में पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने मुझे थाने बुलाकर मुझ पर झूठे केस लगाने की धमकी दी और प्रदर्शन को खत्म करने के लिए दबाव बनाया, प्रदर्शन स्थल से मेरे हट जाने के बाद रात को करीब 3:00 बजे पुलिस ने लाइट बंद करके टेंट में तोड़फोड़ व माहौल खराब करने की कोशिश की लेकिन क्षेत्रवासियों की सूझबूझ के चलते रात को 3:00 बजे भारी संख्या लोग एकत्रित हुए और पुलिस को वहां से निकलना पड़ा !
 फेस इस्लामिक कल्चर कम्युनिटी इंटीग्रेशन (फिक्की) के चेयरमैन डॉ मुश्ताक अंसारी ने पुलिस की इस कार्यवाही को कायरता बताया उन्होंने कहा विरोध प्रदर्शन करना भारत के प्रत्येक नागरिक का संवैधानिक अधिकार है, इसमें पुलिस को बाधक नहीं बनना चाहिए ! दिन-रात ठंड में बैठी बुजुर्ग महिलाएं व युवतियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस को गंभीरता से निभानी चाहिए ! जामिया  जेएनयू मामले में पुलिस पहले से ही दागदार है और यहां खुरेजी में भी अगर ऐसा कुछ हुआ तो पुलिस को फिर से एक बार शर्मशार होना पड़ेगा!
 कांग्रेस लीडर प्रवीणा शर्मा ने पुलिस की भूमिका की निंदा करते हुए कहा कि देश के लिए इससे बड़ी दुर्भाग्य की क्या बात होगी कि देश के नागरिकों की सुरक्षा की कसम खाने वाली पुलिस मोदी जी की उंगलियों पर नाच रही है ! देर रात महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार पूरे पुलिस विभाग के लिए शर्म की बात है ! इस मामले पर एसीपी सिद्धार्थ जैन ने बताया कि रात्रि 2:00 बजे के बाद हम धरने पर बैठी महिलाओं को धरना खत्म करने के लिए बात कर रहे थे कि किसी ने पंडाल को उखाड़ने की कोशिश की लेकिन हमने स्थिति को कंट्रोल करते हुए किसी अप्रिय घटना को अंजाम तक नहीं पहुंचने दिया !  उन्होंने कहा पुलिस पर जो महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार की बात की जा रही है वह गलत है !
मोहम्मद इलियास ने जानकारी देते हुए बताया कि शांतिपूर्ण ढंग से चल रहे विरोध प्रदर्शन में पुलिस द्वारा महिलाओं के साथ बदसलूकी व वातावरण को खराब करने की कोशिश के विरूद्ध आज खुरेजी इलाके में बंद का ऐलान भी किया गया है !