पुलिस के प्रति धन्यवाद भाव बेहतर सेवाएं देने के लिए पुलिस को प्रेरित करेगा- रवि यादव
February 3, 2020 • Bilal Ansari

 

 

उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए एक गीत " यूपी के पहरेदार" गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर लखनऊ में मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ, पुलिस महानिदेशक उत्तर प्रदेश डॉ. ओपी सिंह, मुख्य सचिव श्री आर.के तिवारी, अपर मुख्य सचिव (गृह) श्री अवनीश अवस्थी एवं पुर्व पुलिस महानिदेशक श्री सुलखान सिंह द्वारा अनेक उच्च पुलिस अधिकारियों और जवानों की उपस्तिथि में लॉन्च किया गया। गीत के आवाज़ दी है मशहूर गायक शान ने और गीत के गीतकार हैं रवि यादव, निर्माता हैं रवि यादव एवं मयूर पोपट। संगीत दिया है बॉलीवुड के संगीतकार हृज्जु रॉय ने। गीत काफ़ी वायरल हो रहा है। 
निर्माता एवं गीतकार रवि यादव ने बताया कि पुलिस समाज को सुचारू और सुरक्षित रूप से चलाने के लिए दिन रात मेहनत करती है मगर हम लोग पुलिस को उतना धन्यवाद नही देते जितना देना चाहिए। ये गीत उसी धन्यवाद भाव का एक प्रतीक है। पुलिस की बुराई कर देना पुलिस में कमियाँ निकलना बहुत आसान काम है मगर जिन हालात और दवाबों में पुलिस काम काम करती है उसका अंदाज़ा  लगाना मुश्किल काम है।  हम रात में तब आराम से सोते हैं जब कोई पुलिस वाला रात में हमारे लिए जागता है, हम निश्चिंत होकर अपने त्यौहार तब मना पाते हैं जब पुलिस विभाग अपने सारे त्योहारों का त्याग करता है। 
रवि ने कहा की पुलिस कार्यशैली से अगर कोई शिकायत हो तो उस पर सवाल जवाब ज़रूर होने चाहियें, पुलिस भी इंसान है उसमे भी यकीनन खामियाँ हैं उनमें सुधार होना चाहिए मगर पुलिस जो त्याग और बलिदान समाज के लिए करती है इसके लिए पुलिस विभाग का सम्मान और उत्साहवर्धन भी होना चाहिए। पुलिस मुझे सुरक्षा दे ये मेरा अधिकार है मगर मैं उसके प्रति सम्मान और आभार भाव व्यक्त करूँ ये मेरा फ़र्ज़ है। अधिकार और फ़र्ज़ का संतुलन बेहद ज़रूरी है। रवि ने पूरे पुलिस विभाग का आभार व्यक्त किया कि उनके इस छोटे से प्रयास को पुलिस महानिदेशक श्री ओपी सिंह जी सहित पूरे पुलिस विभाग ने सराहा और स्नेह दिया जिससे मेरा और मेरी पूरी टीम के हौसला बढ़ा। 

*डॉ. मनीष कुमार मिश्र के बिना संभव नहीं था ये गीत

रवि यादव ने पुलिस अधीक्षक, नगर ग़ाज़ियाबाद डॉ. मनीष कुमार मिश्र का विशेष आभार व्यक्त किया उन्होंने कहा कि इस गीत को यहाँ तक पहुंचाने में जितनी मेहनत मेरी है उतनी ही श्री मनीष कुमार मिश्र जी की है। शुरू से अंत तक उनका मार्गदर्शन और सहयोग इस गीत के अच्छे बनने का एक बहुत बड़ा कारण है। वो अपनी व्यस्तता के बावजूद लगातार संपर्क में थे।वो अपने सुझाव भी देते थे और मेरे सुझावों का भी पूरा सम्मान करते थे। 

रवि ने कहा कि वो आगे भी पुलिस विभाग के लिए कार्य करते रहेंगे। इसी वर्ष पुलिस विभाग पर उनकी एक किताब "चट्टानों के बीच तरल" भी प्रकाशित होगी। जिसमे देश भर के पुलिस दल के अनेक कवियों की कविताओं को शामिल किया गया है। 
मूलतः ग़ाज़ियाबाद निवासी रवि यादव पिछले करीब 15 साल से मुंबई में बतौर अभिनेता/ फ़िल्म निर्माता कार्यरत हैं।
अनेक सीरियल , फिल्म्स, में बतौर अभिनेता कार्य किया है और अपनी प्रोडक्शन कंपनी " रवि पिक्चर्स" के बैनर तले कई सीरियल और विज्ञापनों का निर्माण भी किया है। 
बतौर साहित्यकार रवि यादव की चार पुस्तकें प्रकाशित हैं और देश के अनेक प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं में उनकी कविताएँ और कहानियाँ प्रकाशित होती रहती है साथ ही रेडियो, टीवी और मंचों पर भी रवि यादव बतौर कवि काफी सक्रिय हैं। 
रवि यादव के लिखे गीतों को बॉलीवुड के सभी बड़े गायकों ने अपनी आवाज़ दी है जैसे- कुमार सानू, कैलाश खैर, शान, विनोद राठौड़, महालक्षमी अय्यर, साधना सरगम, उदित नारायण, अभिजीत, अनूप जलोटा आदि
रवि इस से पहले भी कई सामाजिक मुद्दों पर गीत बना चुके हैं। 1962 युद्ध में भारतीय सेना के शौर्य पर बने रवि के गीत रेजांगला युद्ध को भी देश विदेश में काफी सराहना मिली थी।