मोमिन कॉन्फ़्रेन्स ने दंगा पीड़ितों को बाँटी खाद्य सामग्री
March 2, 2020 • sona thakur

 

 उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांप्रदायिक दंगों में क़रीब 5 परिवार प्रभावित

नई दिल्ली 2 मार्च ! आल इंडिया मोमिन कॉन्फ़्रेन्स के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष हाजी मोहम्मद इमरान अंसारी के नेतृत्व में शिव विहार दंगा पीड़ितों की सहायता के लिए क़दम बढ़ाते हुए दो दिन में पाँच सो से अधिक फ़ूड किट बाँटी गई ! पिछले दो माह से अधिक समय से सी ए ए के विरोध में पूरी दिल्ली में शांति से चल रहे प्रदर्शनों में कहीं कोई अप्रिय घटना नहीं घटी लेकिन उत्तर पूर्वी दिल्ली में भाजपा नेता कपिल मिश्रा के भड़काऊ भाषण के बाद जो दंगे भड़के वह 4 दिन तक नहीं थमे, क़रीब 500 परिवार प्रभावित हुए और 200 से अधिक मकानों में आग लगादी गई और 50 से अधिक लोगों के मरने की ख़बरें मिल रही हैं !
इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष हाजी इमरान अंसारी ने अपने वक्तव्य में बताया कि मोमिन कॉन्फ्रेंस सामाजिक कार्य में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती है। उन्होंने कहा जब जब भी देश पर किसी भी तरह की कोई आपदा आती है तो मोमिन कॉन्फ्रेंस ने बिना किसी धार्मिक भेदभाव के सभी की मदद की है ! उसी कड़ी में आज शिव विहार इलाके के दंगों से प्रभावित परिवारों की सहायता हेतु हमने 'फूड फिट' का वितरण किया है। जिसमें आटा चावल मसाले आदि खाद्य सामग्री को संग्

  प्रदेश महासचिव डॉ मुश्ताक़ अंसारी ने अपने विचारों से अवगत करते हुए कहा कि हमने संगठन कार्यकारिणी के साथ दंगा प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण किया तो उसमें एक बात सामने निकलकर आई कि इस सांप्रदायिक दंगे के पीछे नेताओं के भड़काऊ भाषण व पुलिस की डील थी। भड़काऊ भाषण देने वाले कपिल मिश्रा , प्रवेश वर्मा , अनुराग ठाकुर, अभेय वर्मा, आदि नेता अभी तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। जो पुलिस विभाग के लिए बड़े शर्म की बात है। उन्होंने कहा मुसलमानों के नाम पर किए गए इस दंगे में जान और माल का अधिक नुकसान मुसलमानों का हुआ है

 कॉन्फ़्रेन्स के बाबरपुर जिला अध्यक्ष इरशाद अंसारी ने कहा कि जब भी कोई दंगा होता है तो उसमें नुकसान सबका होता है, बहुत सारे परिवार प्रभावित होते हैं। कारोबार प्रभावित होते हैं। विकास की गति प्रभावित होती है। उन्होंने कहा इस तरह के दंगे प्लानिंग के तहत किए जाते हैं। अधिकांश नुक़सान कमजोर व गरीब का होता है। इरशाद अंसारी ने यह भी कहा कि सांप्रदायिक दंगों से कभी- किसी का भला नहीं हो सकता ! आपसी सौहार्द में ही सबका भला है ! इस देश से ना तो मुसलमान कहीं जा सकते हैं और ना ही हिंदू तो फिर झगड़ा क्यों?

        इस मौके पर मोहम्मद इलियास सैफी, सलीम अंसारी, मौलाना अब्दुल माजिद, मोहम्मद इकबाल कुरेशी, हाजी शमशाद अंसारी, तस्लीम अंसारी, शहाबुद्दीन अंसारी, मोहम्मद जाकिर, मोहम्मद खलील, मोहम्मद आजाद आदि भी मौजूद रहे।