महँगाई बढ़ी तो बढ़ेंगे अपराध : शकील अंसारी
July 4, 2020 • Bilal Ansari

राष्ट्रीय अंसारी एकता संगठन असहाय मजदूर जरूरतमंद लोगों की लगातार सहायता करता आ रहा है । जरूरतमंदों को ढूंढ ढूंढ कर उनके घर तक राशन पहुंचाने का कार्य दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष शकील अहमद अंसारी ने लॉकडाउन के दौरान किया। उनका कहना है अगर समाजिक संगठन इस महामारी मे आगे नहीं आते तो आवाम दाने दाने को तरस जाती ! प्रदेशों की सरकार ने जो राहत सामग्री का ऐलान किया उसका फ़ायदा जनता को नहीं मिला, दलालों ने अपने पेट भरकर ग़रीबों का हक़ मारा है। 
उन्होंने कहा प्रदेशों में फँसे प्रवासियों को भी सरकार उनके घर तक पहुँचाने में विफल रही ! हज़ारों किलोमीटर का सफ़र प्रवासियों को पैदल ही तय करना पड़ा ! बहुत से मज़दूरों की तो रास्ते में ही मौत हो गई !
  राजनीतिक पार्टियों को गरीब जनता का वोट तो चाहिए मगर किसी भी पार्टी के पास इस गरीब जनता की समस्याओं का समाधान नहीं है !आखिर जनता का कसूर क्या है !
शकील अंसारी ने फ़ेस न्यूज़ के साथ मुलाक़ात के दौरान अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि अनलॉक के बाद भी देश की स्थिति अच्छी नहीं है,कारोबार पर लगभग ताले पड़े हैं मार्केट खुली ज़रूर हैं लेकिन ग्राहक नहीं हैं और कोरोना का संक्रमण निरंतर बढ़ रहा है इस बात को लेकर भी लोग भयभीत हैं ! इस सबके बीच पेट्रोल डीज़ल के दामों में बढ़ोतरी का बोझ ग़रीब व मध्यम वर्ग के लिए बेहद चिंता का विषय है ! उन्होंने कहा ऐसे मुश्किल हालात में महँगाई की मार सरकार का अन्याय है ! सरकार को चाहिए कि आर्थिक व्यवस्था के सुधार के लिए रोज़गार के अवसर बढ़ाने पर ध्यान दे ! अगर बेरोज़गारी को क़ाबू नहीं किया गया तो अपराधों में वृद्धि होगी,लोग आत्महत्याएं करेंगे !