जलसे में इस्लामी अखलाक पर दिया गया विशेष बल
November 8, 2019 • Maulana Majid Mazahiri

भागलपुर 7 नवंबर ! सबौर प्रखंड के बंसीटीकर में दारूल ताहिरा हमीदा लील बनात  लड़कियों और औरतों का पहला मदरसा 2019 में कायम होने के कुछ ही महीनों बाद देश में खातून जन्नत जलसे का आयोजन किया गया । जिसमें तकरीर करने के लिए किशनगंज से आलीमा रूनमा फातिमा, जमशेदपुर से निकहत जबीन सिद्दीकी , भागलपुर से जुलेखा सिद्दीकी, आमना खातून ने खासतौर से शिरकत की । नात पढ़ने के लिए कटिहार से शादियां फातिमा, सहरसा से निदा फातिमा, तहसील फातिमा, भागलपुर से संजीता फातिमा, आरिफा मैसर, आफरीन इमरान, तरन्नुम परवीन, अमीरुन निशा, सूफी रिफत, समर फातिमा ,सना फातिमा, इरम फातिमा और आरिफा बदर आदि ने नातिया कलाम पेश किया।
आलीमा रूनमा फातिमा किशनगंज ने  महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि रसूलल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की तालीमात अपने बच्चों को जरूर मुहैया कराएं ! उन्होंने कहा मौजूदा हालात में इस्लामी अखलाक की बहुत कमी है इस पर भी  ध्यान दिया जाना चाहिए! प्रोग्राम की  अध्यक्षता बीबी महबूबी फातिमा द्वारा की गई ।
           जलसे की सफलता में दारूल ताहिरा हमीदा लील बनात बंसीटीकर सबौर भागलपुर के प्रेसिडेंट मौलाना मोहम्मद मासूम रजा का विशेष योगदान रहा। 

इस मौके पर हाजीन आशिया हकीम, हाजीन गुलशन आरा, हाजीन गुलशन आरा, हाजीन सलमा बानो, अकबरी खातून, नौशाबा कमर, अरजूमंद बानो, शहर बानो, निगार फातिमा, निकहत परवीन और नाशरीन तथा हजारों महिलाऐं और लडकियां मौजूद रहीं!