बिना धार्मिक भेदभाव डेली हज़ारों लोगों खाना बाँट रहे हैं कलीमुल हफ़ीज़
April 22, 2020 • Bilal Ansari

कोरोना की जंग में जहाँ सरकार जनता के सहयोग के  लिए वचनबद्ध है वहीं समाजसेवी संगठन भी अहम भूमिका निभा रहे हैं ऐसे लोगों की संख्या भी देश में काफ़ी है जो निजी तौर पर जनमानस की सेवा बिना किसी धार्मिक भेदभाव के कर रहे हैं ऐसे ही एक व्यक्ति का नाम कलीमुल हफ़ीज़ है ! ओखला निवासी प्रमुख समाजसेवी श्री हफ़ीज़ दिल्ली के शाहिन बाग़ में होटल रिवर व्यू के  नाम से एक होटल भी चलाते हैं ! लॉकडाउन शुरू होते ही होटल तो पूरे देश के बंद हो गए लेकिन इनके होटल की रसोई रेगूलर चल रही है, जहाँ लॉकडाउन के पहले दिन से ही प्रतिदिन हजारों ग़रीब व ज़रूरतमंदों के लिए एक वक़्त का खाना तैयार करके वितरित किया जाता है !
श्री हफ़ीज़ ने अपने एक ब्यान में कहा कि हिंदी मीडिया के कुछ चेनल तबलिग़ी जमात की आड़ में पूरे मुस्लिम समाज को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं बड़े अफ़सोस की बात है जहाँ पूरा विश्व एक जुट होकर कोरोना से जंग लड़ रहा है वहाँ ऐसे नाज़ुक दौर में यह चैनल देश को धर्म के नाम पर बाँटने का कार्य कर रहे हैं ! उन्होंने कहा यह जंग सभी धर्म जाति के लोगों को संगठित होकर लड़नी होगी क्योंकि यह महामारी किसी का धर्म पूछकर उसको प्रभावित नहीं करेगी ! उन्होंने समाज सेवियों से अपील करते हुए कहा कि गरीबों ज़रूरतमंदों की सहायता के लिए दिल खोलकर आगे आएँ क्योंकि जैसे जैसे लॉकडाउन का समय बीतता जा रहा है वैसे वैसे आर्थिक संकट तथा गरीबों को दो वक़्त के भोजन के लिए अधिक दिक्कतें आ रही हैं ! मिडिल क्लास परिवारों की स्थिति भी अच्छी नहीं है इसलिए गुंजाइश वाले लोग अपने संपर्क के लोगों का भी विशेष ख्याल रखें !